नाइट्रिक अम्ल क्या है, ऑस्टवाल्ड विधि द्वारा नाइट्रिक अम्ल, भौतिक गुण

 नाइट्रिक अम्ल का उपयोग रासायनिक उद्योगों आदि कामों में अधिक होता है नाइट्रिक अम्ल का मुख्य उपयोग रंजको (dyes को विस्फोटक पदार्थ, तथा दवाइयां आदि बनाने में किया जाता है। यह एक बहुत ही प्रबल अम्ल है नाइट्रिक अम्ल का सूत्र HNO3 होता है  नाइट्रिक अम्ल नाइट्रोजन के द्वारा बनाई जाती है नाइट्रोजन के द्वारा और भी ऑक्सोअम्ल  बनते हैं।  जैसे--

(i)  H₂N₂O₂------- हाईप्रोनाइट्रस अम्ल 
(ii)  HNO₂---------- नाइट्रस अम्ल
(iii) HNO₃---------- नाइट्रिक अम्ल



नाइट्रिक अम्ल की संरचना और विवेचना

नाइट्रिक अम्ल की संरचना और विवेचना नाइट्रिक अम्ल का सूत्र HNO₃ होता है तथा इसको आणविक सूत्र NHO₃ में रूप में लिखा जाता है|
                                              अणुभार ------------- 63.01 ग्राम

ऑस्टवाल्ड विधि द्वारा नाइट्रिक अम्ल बनाने की विधि 

इस विधि के द्वारा सबसे पहले अमोनिया का platinum उत्प्रेरक की उपस्थिति में ऑक्सीजन से क्रिया करने पर नाइट्रस ऑक्साइड बनती है। इसके बाद नाइट्रस ऑक्साइड की पुन: क्रिया कराने पर यह ऑक्सीकृत होकर नाइट्रोजन डाइऑक्सिड बनाती है अब पुन: नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की जल से क्रिया होती है तब नाइट्रिक अम्ल का निर्माण होता है
                  1.  4HN₃→4NO+6H₂O
                  2.  2NO+O₂→ 2NO₂
            3. 3NO₂+H₂O→2HNO₃+NO

नाइट्रिक अम्ल के भौतिक गुण

1. जब नाइट्रिक अम्ल शुद्ध अवस्था में होता है तब ये रंगहीन तेलीय द्रव होता है किंतु जब इसमें नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की अशुद्धि मिल जाती है तो ये पीला भूरा हो जाता है
2. नाइट्रिक अम्ल को त्वचा पर डालने से पीड़ादायक घाव बन जाता है।
3. नाइट्रिक अम्ल विभिन्न सांद्रता वाले विलयन के रूप में होता है

नाइट्रिक अम्ल के रासायनिक गुण1. 

1.  प्रबल अम्ल होने के कारण यह जलीय विलयन में आयनित हो जाता है
                HNO₃+H₂O→H₃O+NO₃

2. यह एक क्षणीय अम्ल है| यह धातुओं हआईड्रोक्सिडो कार्बोनेट्स के साथ अभिक्रिया करके नाइट्रस बनाते है।
    (i)   NaOH+HNO₃→NaNO₃+H₂O
  (ii) NaHCO+HNO₃→NaNO₃+H₂O+CO₂

3. तीव्र गर्म करने पर नाइट्रिक अम्ल अपघटित होकर NO₂ व O₂ बनाता है।
    4HNO₃→2H₂O+4NO₂+O₂


No comments

Powered by Blogger.