Storage Classes in C in Hindi

 इस Article में हम Storage Classes in C in Hindi के बारे में जानेगे।  Storage Classes in C in Hindi Article में जानेगे Storage Classes क्या है ? इसका क्या Use है, Storage classes को कैसे Use किया जाता है।  ये सब जानकारी Storage Classes in C in Hindi Article में जानेगे। 



Storage Classes in C in Hindi 

Storage Classes variable की Visibility और Location तय करते है।  ये तय करते है , Variable को CPU या Register में Store कराना है।  नीचे कुछ और भी जानकारी दी गयी है।  जो C Storage Classes से होता है। 

1. ये Variable Scope है। 

2. ये Variable का Lifetime Scope निर्धारित करता है। 

3. Variable की Location निर्धारित करता है। 

4. ये Variable की Value को निर्धारित करता है। 

Storage classes 4 प्रकार की होती है। 

  1. Automatic Storage Classes
  2. Extern Storage Classes
  3. Static Storage Classes
  4. Register Storage Classes

1. Automatic Storage Classes in C in Hindi

ये एक Local Variable है।  ये Simple Normal Variable की तरह है।  इसका Use करने के लिए Auto Keyword लगाया जाता है। इसकी default Value "garbage" है।  ये Variable Function के अंदर Use होता है।  Function के बहार जैसे ही इसका Control जाता है ये Destroy हो जाता है। 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>
int main()
{
    auto int x = 5;
    auto int y = 10;
    auto int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output

15

2. Extern Storage Classes in C in Hindi

Extern Storage Class का Use तब होता है , जब Global Variable या Global Function Create करते है।  Extrern keyword या Extern Storage class का Use तब होता है , जब हम कोई दूसरी File में Global Variable Declare करते है और उस Global Variable या Global Function को Original File में Define करते है।

Second File 

#include <stdio.h>
 
extern int vishal;
 
void write_extern(void) {
   printf("count is %d\n", vishal);
}
Second File में Variable को Declare किया गया है।  


First File
 
#include <stdio.h>
 
int vishal;
extern void write_extern();
 
main() {
   vishal = 5;
   write_extern();
}

Output

5

3. Static Storage Classes in C in Hindi

Static Storage Class का use Static variable Create करने के लिए किया जाता है। 


#include <stdio.h>
#include <conio.h>
int main()
{
     int x = 5;
    static int y = 10;
     int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output

15

4. Register Storage Classes in C in Hindi

Register Storage Class का Use Local Variable Create करने के लिए किया जाता है।  इसके द्वारा Create किया गया Variable Register में Store होता है।  न की RAM में Register variable में Memory Location नहीं होता है। 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>
int main()
{
     register int x = 5;
    register int y = 10;
     int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output

15

C Comments in Hindi - Comments in C in Hindi

 इस Article में C Language के Comments के बारे में जानेगे।  Comments Program का काफी Important Part है।  Comments छोटे से बड़े सभी Program में Use होती है।  Comments सभी Programing Language में एक ही Type से Create की जाती है।  इसलिए अगर आप एक Programing Language में Comments को सही से समझ लेते है।  तो किसी भी Programing में Use कर सकते है।  



C Comments in Hindi 

Comments का Use Program में Code के बारे में लिखने के लिए किया जाता है।  इसको Compiler Run नहीं करता है।  सिर्फ ये Program में देख सकते है।  यानि एक Code की File में देख सकते है।  

जब भी कोई Program लिखना होता है।  तब बहुत अधिक Code लिखना होता है।  लेकिन क्या यही Code बाद में समझना आसान होता है।  नहीं , इसलिए Comments का use किया जाता है।  इसके द्वारा Code के बारे में Describe कर सकते है और बाद में कभी भी Code को Edit करना हो।  तो Comments के माध्यम से Code को आसानी से समझ सकते है।  

C में Comments दो प्रकार की होती है।  
1. Single line Comments 
2. Multi line Comments 

Single Line Comments 

Single Line Comments से एक Line की Comments को Create कर सकते है।   इसे // (Double Slash) से दर्शाया जाता है जैसे - 
// This is Single Line Comments 


#include <stdio.h>
#include <conio.h>
int main() {
int x = 50;
int y = 20;
int z = x+y; //This is Add of x+y
printf("Add %d",z);
return 0;	
	getch();
}

Output 

70

Multi Line Comment

Multi Line Comments का Use एक से अधिक Line की Comments को Create करने के लिए किया जाता है। Multi Line Comments के द्वारा एक से अधिक Line की Comments को Create कर सकते है।  जैसे 
/*This is Multi 
Line 
Comments */
 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>
int main() {
int x = 50;
int y = 20;
int z = x+y;
/*This is
Add 
of x+y */
printf("Add %d",z);
return 0;	
	getch();
}

Output
 
70

तो इस प्रकार से C में Comments को Create कर सकते है।  

C Constants and Literals in Hindi

 इस Article में C Constants in Hindi और C Literals in Hindi के बारे में जानेगे।  



C Constants in Hindi 

Constants का Use भी Value को Store करने के लिए किया जाता है।  ये भी Variable की तरह होता है लेकिन इसमें जो Value Store की जाती है वो Fixed value होती है उसे Program Execution के Time Change या Modify नहीं किया जा सकता है।

Syntax of C Constants in Hindi 

Constant Variable को Create करने के लिए const Keyword का Use किया जाता है। 

const type variable = Value;

अब इसका एक Example देखते है। 


#include<stdio.h>
#include<conio.h>
int main() {
    const int x = 10;
    printf("%d", x);
}

Output 

10

ये एक Simple Example है।  जिसमे एक Const Variable Create करते है और उसको Screen पे Display करते है। 

C Literals in Hindi 

Literals in C in Hindi - Constant Variable को दी गयी Value Literals कहलाती है।  जो Value Change नहीं होती है , वो Literals कहलाती है।  ये 4 प्रकार की होती है। 

Integer Literals 

Integer Literals में decimal, Octal, Hexadecimal, long आदि Value होती है। 

Floating-Point Literals 

Floating Point भी Integer का Part है।  इसमें दशमलव संख्या होती है। 

Character Constants 

Character Literals enclosed Single Quotes में होते है। 

String Literals

String Text का Collection होती है।  जिसे Double Inverted ("  ") Commas में लिखा जाता है। 

Second Way Define Constant 

जैसे की ऊपर जान चुके है।  की Constant Variable Create करने के लिए const keyword का Use किया जाता है।  लेकिन इसको #define Preprocessor से भी Create (define ) कर सकते है। 

Keywords in C in Hindi - C Keywords in Hindi

 इस Article में Keywords in C in Hindi - C Keywords in Hindi के बारे में जानेगे 



Keywords in C in Hindi 

Keywords predefined Reserved Words है। जिनका Use Programing Language में एक विशेष Special Work के लिए होता है।  जैसे - int , float char इसके अतिरिक्त और भी बहुत सारे Keywords है।  Variable name create करते समय इन Keywords को Use नहीं कर सकते क्युकी Compiler को Special Meaning समझता है। c में Total 32 keywords है। 



KeywordsUse 
auto Auto Variable को Create करता है। 
break Switch Statement में Use होता है। 
case Switch Statement में Use होता है। 
char Character Data type है।  Character value Store करता है। 
const Const Variable Create करता है। 
continue Switch Statement में Use होता है। 
default Switch Statement में Use होता है। 
do Condition Statement में Use होता है। 
double Double data type है।  
else If else Condition Statement में use होता है। 
enum ये भी एक Data type है।  जिसका Use Integral Constants
को name assign करने के लिए किया जाता है। 
extern Extern Type Variable को Create करता है। 
float float एक Data type है।  जिसका use दशमलव संख्या के लिए किया जाता है। 
for इसका Use Condition Statement में होता है। 
goto इसका Use Statement पे Jump करने के लिए होता है। 
If
इसका Use Condition Statement में होता है। 
short Short data type है। 
signed ये भी Data Type में Use होता है। 
size of Operator के Size को Compute करने के लिए Use किया जाता है। 
static Static Variable को Create करता है। 
int ये भी एक Data type है।  जो Integer value को Store करता है । 
long ये भी एक Data Type है। 
register अगर Variable को Memory register में Assign कराना हो तो इसका Use किया जाता है। 
return ये Define करता है।  की program value return कर रहा है या नहीं। 
struct Data Type में File के Formate को Declare करता है। 
switch Switch Statement में Use होता है। 
typedef User Define Data Type को New Name देने के लिए Use होता है। 
union एक Special type Variable Declare करता है। 
unsigned Data Type में Memory के आधार पर बनाये गए है। 
void जब कोई भी Value Return न कराना हो तो void keyword use करते है। 
volatile ये Compiler को बताता है variable की Value किसी भी Time Change हो सकती है। 
while Condition Statement में Use होता है।

C Variable in Hindi - Variable in C in Hindi

 C Variable in Hindi - Variable in C In Hindi - is Article में हम C Language के Variable के बारे में जानेगे।  Variable के द्वारा ही किसी भी Data को Program में Store किया जाता है। ये Programing का काफी महत्त्वपूर्ण Concept है।  इसलिए इसको ध्यान से पढ़े। 



C Variable in Hindi 

Variable एक Identifier होता है। जो Data को Store करने के लिए Memory Assign करता है।  ये एक Memory Location का नाम होता है।  जिसमे Data Store किया जाता है।  

इससे भी आसान शब्दों में कहे, तो Variable का Use Data को Store करने के लिए किया जाता है।  इसमें Integer, float, Double, Char आदि Type की Value information Store कर सकते है और Variable की मदद से उस Value को Program में कही भी Access कर सकते है।  Multiple Time Use कर सकते है। अब Variable को declare करने का Syntax देखते है। 

type variable-list;

Type - सबसे पहले ये Define किया जाता है की इसमें किस Type का Data Store करना है, जैसे - Int, Float, char
Variable-name - जब Variable का नाम Create करना होता है। 

सिर्फ Variable Declare तब किया जाता है।  जब हम Output में Value को ले रहे हो।  और उस Variable में Store कर रहे हो।  Scanf() की Help से। 

अगर हम Output में Value दे रहे है।  या Program में Variable में Value भी Store कर रहे है।  तो नीचे वाला ये Syntax Use होगा। 


type variablename = value;

अब इसका नीचे Syntax देखते है। 


#include <stdio.h>
#include <conio.h>

int main()
{
    int x = 50;
    int y = 20;
    int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output 

70

Variable Creating Rules in Hindi 

Variable को Create करने के कुछ Rules है।  जिन्हे ध्यान रखना होगा। 

1. किसी Variable name के शुरुआत में Digit नहीं रख सकते है।  Alphabet और Underscore रख सकते है। 
2. Variable में Space नहीं दे सकते है। 
3. Variable name में Underscore , Alphabet digit का Use कर सकते है। 
4. किसी भी Variable नाम में Reserved Word और Keywords का Use नहीं किया जा सकता है। 

C Variable Types in Hindi 

c में कई प्रकार के Variable होते है।  ये मुख्य रूप से पांच प्रकार के होते है। 

1. Local Variable 
2. Global Variable
3. Static Variable
4. Extern Variable 


1. Local Variable in C in Hindi 

C में Local variable का Use किसी Function के बीच में होता है।  यानि जो Variable किसी Function के अंदर Use किया जाता है।  Local variable कहलाता है।  ये Statement के द्वारा ही Use किये जा सकते है। 


#include <stdio.h>
#include <conio.h>

int main()
{
    int x = 50;
    int y = 20;
    int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output 

70

2. Global Variable in C in Hindi

Global Variable को किसी Function के बहार यानि Function से पहले ही Define किया जाता है।  जो Variable Function के बाहर या Function से पहले ही Declare किया गया हो Global Variable कहलाता है। 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>
 int x = 50; //Global Variable Declare
    int y = 20;
    
int main()
{
   int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

Output
 
70

3. Static Variable in C in Hindi 

जो Variable Static Keyword से Declare ंकिया गया हो Static Variable कहलाता है। 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>
 static int x = 50; //Global Variable Declare
   static int y = 20;
    
int main()
{
  int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}

4. Automatic Variable 

वैसे तो जो variable Block या Function के बीच में Declare किये गए होते है।  वो Automatic variable कहलाते है, लेकिन Auto Variable को Auto keyword से भी Create कर सकते है। 

#include <stdio.h>
#include <conio.h>

    
int main()
{
    auto int x = 50; 
   auto int y = 20;
  int z = x+y;
    printf("%d", z);

    return 0;
    getch();
}


5. Extrern Variable 

ये भी Static और Automatic Variable की तरह ही होता है। 

C Data Types in Hindi - Data Types in C in Hindi

 इस Article में हम C के Data Types के बारे में  में जानेगे।  Data Types in C in Hindi काफी Important Chapter है।  Data Types का Use Programming में बहुत अधिक होता है, इसी के द्वारा Information , Data को Program में Store करते है। 



Data Types in C in Hindi 

Data Types का Use Variable और Function को Declare करने के लिए किया जाता है।  जब भी कोई Variable Create करते है।  तो सबसे पहले ये Define करना होता है की इसमें किस Type का Data Store करना होता है।  तभी Variable Data को Store करता है।  किसी भी Variable या Function में बहुत प्रकार के Data को Store कर सकते है। जैसे - Integer, Float, Double, String, Void etc. 

हर एक Data Type का अलग Size होता है। उसी से वो Variable में Storage को Define करता है।  तो अब Data Types के बारे में जानते है। 


Basic TypesEnumerated TypesVoid Types Derived Types
Integer User-DefinedNo ValueArray
Float

Structure
Char
Union
Data Types को Main चार भागो में विभाजित किया गया है।  अब इन सभी सभी में कितने प्रकार के होते है।  ये आप ऊपर Table में देख सकते है।  नीचे मई और अच्छे से समझाने की कोशिश कर रहा हूँ। 

Basic Data Types in C in Hindi 

ये Arithmetic Data types होते है।  इसमें सभी Numbers होते है।  ये 3 प्रकार के होते है। इसमें Numbers उनकी Limit Range होती है। 
1. Integer
2. Float
3. Char

Integer Data Types in Hindi 

Integer data Types यानि की वह संख्या जिसमे दशमलव नहीं होता है, उसे Store करा सकते है।  इसमें भी limit के अनुसार बांटा गया है। 


TypesStorage/SizeValue Range 
char 1 Bytes-128 to 127
Unsigned char 1 Bytes0 to 255
Signed Char 1 or 2 Bytes-128 to 127
Int 2 or 4 Bytes-32768 to 32767
Unsigned int 2 or 4 Byteso to 65535
Short 2 Bytes -32768 to 32767
Unsigned Short2 Bytes0 to 65,535
long 8 Bytes-9223372036854775808
to 9223372036854775807
Unsigned long8 Bytes0 to 18446744073709551615

Float Data Types in C in Hindi 

Float Data Types यानि की वे संख्या जिनमे दशमलव (Decimal) होता है , उनको Store किया जाता है।  दशमलव वाली संख्या को Float Data Types में Store किया जाता है। 


TypesStorage/SizeValue Range 
Float 4 Bytes1.2E - 38 to 3.4E +38
Double 8 Bytes2.3E -308 to 1.7E + 308
Long Double 10 Bytes3.4E-4932 to 1.1E + 4932

Character Data Types in C in Hindi 

Character data Types जिसे Char से Define किया जाता है।  इसके द्वारा किसी भी Character को Store कर सकते है। जैसे - Aa%#

Void Data Types in C in Hindi 

Void का मतलब Null Value होता है, जब हमें Program में कोई भी Value return नहीं कराना होता है।  तब Void Data type का Use करते है। 

यहाँ पे Basic Data types के बारे में पूरी जानकारी दे दी है अन्य Data Type Important नहीं है।  Derived Data Type के बारे में हम Next Article में जानेगे। 

C Syntax File Structure in Hindi

इस Article में C Language के Syntax और File structure के बारे में पूरी तरह से जानेगे। ये हमारा C Language Syntax का पहला article है।  इसको आप ध्यान से पढ़िए। 



C Syntax in Hindi 

यहाँ पे सबसे पहले C Language के Basic Program को देखेंगे और उसे समझेंगे।  इसके लिए सबसे पहले C का Basic Program Create करते है। 


#include <stdio.h>
#include <conio.h>

void main() {
    // Write C code here
    printf("Hello world");
    
getch();
}

Output 

Hello World

ये C का Basic Program है।  जो Hello World Text print कर रहा है। 

1. ये एक Preprocessor होता है।  जो Program में C की Library को Include करता है। 
2. Include ये Header File को Program में Include कर रहा है। 
3. <stdio.h> यही Header File है इसको Predefined Function भी कहा है। 
4. <conio.h> इसका Use Window Console में Program का Output Show कराने के लिए किया जाता है। 
5. Void Keyword ये बताता है की Program कोई भी Value को return नहीं कर रहा है। 
6. main() ये C का Main Function है।  ये C के किसी भी Program का शुरुआती Function है, यहाँ से Program शुरू होता है। 
7. printf("Hello world"); ये एक Predefined Function है, जिसका Use Program में कोई भी Information को Display कराने के लिए किया जाता है  इसमें जो भी लिखते है वो ("") Double Inverted Commas में लिखते है। 

8. getch() ये भी Predefined Function है।  जिसका Use Output Screen को Hold करने के लिए किया जाता है। 

तो अब आप ये समझ चुके है की C का Program कैसे बनता है।  

C Program Rules in Hindi 

यहाँ पे इसके कुछ Rules जानेगे , की जब एक Program बनाते है तो क्या - क्या ध्यान रखना बहुत महत्त्वपूर्ण है ? क्या क्या Ignore किया जा सकता है।  

C Tokens in Hindi 

एक C Program Tokens से मिलकर बना होता है।  Tokens में Keywords , Identifier , Constants , Variable और अन्य Brackets आदि होते है। 

जैसे - 


 printf("Hello world");

इसमें बहुत सारी Tokens है।  अगर इसको अलग अलग कर दिया जाये, तब भी कोई Error नहीं आएगा। 


 printf
 (
     "Hello world"
     )
     ;

Whitespace in C

Whitespace यानि की Blank Line होती है।  Program में Whitespace जितना चाहे दे सकते है।  इसको Compiler ignore कर देता है। 

Semicolons 

हर एक Statement के बाद Semicolon (;) का लगाना बहुत जरुरी है।  क्युकी semicolon से ही पता चलता है की ये Statement यहाँ End हो रहा है।  अगर Semicolon का Use नहीं किया गया तो Compiler Error Show करेगा। 

Learn Programming,Andriod Development, Computer Knowledge and Data Structure in Hindi